Wednesday, 5 February 2014

Godda Jharkhand


xksM~Mk ftys dk {ks=Qy 2110 ox`` fdeh- gSA bl ftys esa 2 vuqeaMy rFkk 9 iz[kaM gSaA
bu iz[kaMksa dk uke bl izdkj gS % esgjek] egxkek] cksvkjhtksj] iFkjxkek] cklurjkbZ] BkdqjxaxVh] iksMS+;kgkV] xksM~Mk] lqUnjigkM+hA

bfrgkl % 1981 rd ;g ftyk vfoHkkftr laFkky ijxkuk ftyk dk vfHkUUk vax FkkA igys ;g bl ftys dk lcfMohtu cuk fQj ckn esa bl vuqeaMy dks ftys dk nTkkZ fn;k x;kA
xksM~Mk dk bfrgkl laFkkYkijxkuk ds lkFk gh jpk clk gSA
tula[;k % 2011 dh t.kuk ds vuqlkj bl ftys dh dqy tula[;k 13]13]551 O;fDr gSaA

bl ftys es vuqlwfpr tkfr ,oa vuqlwfpr tutkfr dh tula[;k dze’k% 1]15]567  O;fDr rFkk 2]79]208 O;fDr gSaA lk{kj O;fDr;ksa dh la[;k 6]04]519 O;fDr gSA

नदियाँ % bl ftys esa NksVh cM+h 10 ufn;k izokfgr gksrh gSaA इनमें सुन्दर नदी प्रमुख है तेलो और राजाभीठा के बीच  से प्रवाहित होती हुई पश्चिम की ओर जाती है जहाँ यह हनवारा के पास गोड्डा की पश्चिम एवं भागलपुर की उत्तर&पूर्वी सीमा का निर्माण करती है तथा कुछ दूर बिहार में  प्रवाहित होकर भागलपुर गंगा में मिल जाती हैA

उद्योग 

पर्यटन केंद्र यहाँ अन्य जिलों की तुलना में सबसे कम पर्यटन स्थल हैं 
गोड्डा जिला से 1 3 किलोमीटर दूर बारकोप पहाड़ी में माँ योगिनी का मंदिर है कहा  जाता है की सती माँ का दाहिना जाँघ यहाँ गिरा था 


 

No comments:

Post a Comment